planets name in hindi solar system के सभी ग्रहों, उपग्रहों के नाम की पूरी जानकारी

My dear अगर आप planets name in hindi की खोज कर रहे हैं, तो आपका स्वागत है आज की इस पोस्ट में जिसमे हम आपको planets name in hindi के बारे में पूरी जानकारी देने वाला हूँ।

जब भी हम स्वच्छ आकाश में देखते हैं, तो हमें अनगिनत तारे, गृह पिंड और उपग्रह चमकते नजर आते हैं, हमारा संसार इन्ही ग्रहों से मिलकर बना हुआ है, ये ग्रह अपनी धुरी पर लगातार सूर्य के चारो ओर भर्मण करते रहते हैं, सूर्य हमारे सौरमंडल वह चमकता तारा है जिससे इस पूरी दुनिया को अपार ऊर्चा मिलती है।

यूँ तो कहने को हमारे सौरमंडल में अनगिनत तारे, उपग्रह से लेकर तमाम small ग्रह और पिंड मौजूद हैं, लेकिन उन सभी में से पृथ्वी ही एक मात्र ऐसा ग्रह है जिस पर जीवन फल फूल रहा है आज पृथ्वी वासियों मतलब हम इंसानो ने सौरमंडल में इतना सब खोज लिया है जिसे अब तक बहुत से लोग काल्पनिक मानते आ रहे थे।

तो चलिए आपका ज्यादा समय न लेते हुए हम all planets name in hindi से लेकर सौरमंडल, तारा, ग्रह और उपग्रह किसे कहा जाता है? इन सब के बारे में कुछ खास जानकारी जुटाने की कोशिश करते हैं।

solar system in hindi
solar system in hindi

Solar system planets name in hindi and english सभी ग्रहों के नाम फोटो सहित

planet imagesplanets name in english name of planets in hindi
mercury Mercuryबुध
venus Venusशुक्र
jupiter Jupiterबृहस्पति
mars Marsमंगल
earth Earthपृथ्वी
satrun Saturnशनि
uranus Uranusअरुण
neptune Neptuneवरुण
planets name list

सौरमंडल क्या है ?

सूर्य के चारों और परिक्रमा कर रहे उन तमाम ग्रहों, उपग्रहों और उल्का पिंडों के समूह को सौरमंडल solor system कहा जाता है, हमारा सौरमंडल का अनंत विस्तार है सूर्य इस सौर परिवार का सभापति है, और इसमें कुल आठ गृह 31 उपग्रह व 20 हजार से अधिक लघु ग्रह मतलब छोटे गृह सम्मिलित हैं जो सभी सूर्य के चारो ओर नितरनतार परिकर्मा कर रहे हैं।

तारे क्या होते हैं ?

तारे सौरमंडल में सूर्य के बाद सबसे अधिक चमकने वाले गर्म गैसों के गोले होते हैं, इनका सूर्य की भांति अपना प्रकाश होता है, यही कारण है की इन्हे हम अपनी नग्न आँखों से भी देख पाते हैं।

वैसे तो तारों का कोई आकार नहीं होता है लेकिन जब तारों का कोई समूह एक निश्चित आकृति का आकार लेते हैं तो उसे तारामंडल कहा जाता है, बिग डिपर व ओरियन जैसे कुछ हमारे सौरमंडल के बहु प्रसिद्ध तारामंडल हैं।

Sun: सूर्य ( सोलर सिस्टम का प्रधान )

सूर्य हमारे सौरमंडल का एक मुख्य भाग यानि प्रधान होता है, यह हमारी आकाश गंगा मंदाकिनी दुग्धमेखला के केंद्र से लगभग तीस हजार प्रकाश वर्ष की Distence पर एक कोने में स्थित है जो हाइड्रोजन, हीलियम जैसी गैसों के मिश्रण का एक विशाल गैसीय गोला है जिसका तापमान 1.5x 107 डिग्री सेल्सियस होता है।

इतना ही नहीं इसकी बाहरी सतह का तापमान भी लगभग 6000 डिग्री सेल्सियस होता है जो इसे हमेशा आग की तरह लाल रखता है सूर्य अपनी अक्ष पर पूर्व से पश्चिम की ओर घूमता है जिससे यह पुरे सौमंडल को अपार ऊर्जा प्रदान करने का कार्य करता पाता है। 5 बिलियन वर्ष की उम्र वाले इस सूर्य की प्रारंभिक किरणें पृथ्वी तक पहुँचने में कुल 8 मिनट 16.6 सेकेण्ड का समय लेती हैं।

ग्रह क्या होते हैं ?

हमारे सौरमंडल में सूर्य के बाद ग्रह ही सबसे विशालतम पिंड हैं, इनमे स्वयं का प्रकाश नहीं होता है यह सब सूर्य के आने वाले प्रकाश को प्रतिबिंबित करते हैं जिसके लिए यह अपनी अक्ष पर sun के चारों और घूमते रहते हैं साथ ही यह अपनी अक्ष से एक दूसरे को कभी पार नहीं करते हैं।

सभी ग्रहों के नाम all planets name in hindi

1. Mercury बुध

marcury यानी बुध यह ग्रह सूर्य के सबसे निकट स्थित है, जिसके कारण दिन में इसकी सतह का तापमान बहुत high होता है जबकि रात में यह तापमान माइनस -173 डिग्री सेल्सियस में भी पहुँच जाता है, Sun के सबसे निकट होने के कारण बुध सूर्य के निकलने से पूर्व two hours पहले दिखाई पड़ता है।

इसके साथ ही यह सौरमंडल का सबसे छोटा व हल्का ग्रह है, जिसका अपना कोई उपग्रह नहीं है बुध 58 मिलियन किलो मीटर दूरी से अपनी धुरी पर सबसे कम समय लगभग 58.6 दिनों में सूर्य का अपना एक चक्कर पूरा कर लेता है यहाँ दिन अत्यधिक Hot व रातें बर्फीली होती हैं।

2 . Venus शुक्र

शुक्र हमारे solar system का एक मात्र ऐसा planet है जो पूर्व से पश्चिम की ओर घूमता है जिसे हम लोग साँझ का तारा या भोर का तारा भी कहते हैं सूर्य से इसकी दूरी लगभग 107 मिलियन किलो मीटर होने के साथ ही यह सौरमंडल के कुल आठ ग्रहों में से सबसे चमकीला व सबसे गर्म ग्रह है।

शुक्र को पृथ्वी के सबसे निकटतम व आकार में लगभग समान होने के कारण इसे Earth की भगिनी मतलब पृथ्वी की बहन यह Earth का जुड़वाँ planet भी कहा जाता है जो हमें पृथ्वी पर शाम के Time पश्चिम दिशा में तथा Morning time में पूर्व दिशा में दिखाई पड़ता है, बुध की भांति इसके पास भी स्वयं का कोई उपग्रह नहीं है।

3. Earth पृथ्वी

Sun से लगभग 149 मिलियन किलो मीटर की दूरी पर स्थित पृथ्वी हमारे पूरे सौरमंडल का एक मात्र ऐसा ग्रह है, जिस पर life posible है यह solar system का पांचवा सबसे बड़ा ग्रह है जो अपनी अक्ष पर पूर्व से पश्चिम की ओर लगभग 1610 किलो मीटर प्रति घंटे की चाल से 23 घंटा 56 मिनट व 4 सेकण्ड में अपना एक चक्कर पूरा करती है।

धरती की इस गति को दैनिक गति या घूर्णन कहा जाता है इस दैनिक गति के कारण ही यहाँ दिन और रात का समय posible हो पाता है, जल की उपस्थिति के कारण ही इसे नीला ग्रह (blue planet) भी कहा जाता है यह लगभग 365 दिन और 6 घंटे में sun का एक चक्कर पूरा कर पाती है इस पूरी समयावधि को पृथ्वी पर एक वर्ष गिना जाता है।

4. Mars मंगल

Red planet के नाम से जाना जाने वाला मंगल ग्रह अपने दो उपग्रहों phobos and deimos के साथ अपनी धुरी पर 24 घंटे में एक चक्कर पूरा कर लेता है, आयरन आक्साइड की बहुत: होने के कारण लाल मंगल ग्रह की सूर्य से दूरी लगभग 226 मिलियन किलोमीटर है।

लगभग 687 दिनों की लम्बी अवधि में सूर्य की परिक्रमा करने वाले Mars पर solar system यानी सौरमंडल का अब तक का खोजा गया सबसे बड़ा ज्वालामुखी ओलिपस मेसी तथा माउंट एवरेस्ट से भी तीन गुना ऊंचाई वाला सौर मंडल का सबसे ऊँचा पर्वत निक्स ओलंपिया स्थित है।

5. Jupiter बृहस्पति

Sun से लगभग 773 मिलियन किलो मीटर की disstence पर स्थित Jupiter को solar system का सबसे बड़ा ग्रह कहा जाता है, इसका द्रव्यमान सूर्य के द्रव्यमान का लगभग 1000 वां भाग है यह अपनी धुरी पर सभी ग्रहो की तुलना में सबसे काम time 10 घंटे में चक्कर पूरा कर लेता है।

साथ ही इसे sun की परिक्रमा करने लगभग 12 वर्ष का लम्बा समय लगता है बृहस्पति दुनिया की कई धार्मिक संस्कृतियों और पौराणिक कथाओ से जुड़ा हुआ है, इसी कारण प्राचीन समय में roman सभ्यता ने अपने देवता जुपिटर के नाम पर बृहस्पति का नाम Jupiter रखा था ग्यानीमीड को jupiter का सबसे बड़ा उपग्रह माना जाता है।

6. Sturn शनि

Solar system में जुपिटर के बाद दूसरा सबसे बड़ा ग्रह होने का स्थान रखने वाले शनि का आकार काफी विचित्र है, जिसका श्रेय इसके तल में उपस्थित मोटी प्रकाश वाली कुंडलियों को जाता है, इन कुंडलियों को वलय भी कहा जाता है sturn के तल में इन वलयों की कुल संख्या सात है।

सूर्य से लगभग 1418 मिलियन किलो मीटर की लम्बी दूरी पर स्थित यह ग्रह आकाश में हमें पीले तारे के समान दिखाई देता है, साथ ही solar system में सबसे अधिक उपग्रह रखने वाले शनि का फोबे नामक उपग्रह इसकी विपरीत दिशा में घूमता है, इसके अलावा sturn का घनत्त्व जल से भी बहुत कम है जिसके चलते अगर इसे पानी में रख दिया जाए तो यह तैरने लगेगा।

7. Uranus अरुण

नीली हरी गैसों की मोटी परत से ढका अरुण हरे रंग का दिखाई देता है, आकार में यह सोलर सिस्टम का तीसरा सबसे big planet है जिसकी दूरी सूर्य से लगभग 2851 किलोमीटर है जिसके कारण इसकी सतह का तापमान लगभग माइनस 215 डिग्री सेल्सियस होता है।

यह अपनी धुरी पर सूर्य की ओर अधिक झुकाव के कारण लेटा हुआ प्रतीत होता है जिसके चलते इसे लेटा हुआ ग्रह भी कहा जाता है, यहाँ सूर्योदय पश्चिम दिशा में तथा सूर्यास्त पूरब दिशा में होता है क्योंकि Uranus दक्षिणावर्त घूमता है सर्व प्रथम इसकी खोज 1781 ई. में विलियम हर्शेल द्वारा की गई थी।

8. Neptune वरुण

sun से लगभग 4469 मिलियन किलो मीटर की दूरी पर उपस्थित वरुण ग्रह सूर्य से सबसे अधिक दूरी स्थित है, इसके चारों ओर हमेशा मीथेन गैस के ठन्डे बदल छाये रहते हैं, शायद इसके कारण ही यह हरे रंग का प्रकाश उत्सर्जित करता रहता है जिसके चलते इसे हरे रंग का ग्रह भी कहते हैं, आठ उपग्रहों में से triton इसका मुख्य उपग्रह है।

उपग्रह क्या होते हैं ?

अंतरिक्ष में planets की परिकर्मा करने वाले आकाशीय पिंडों को उपग्रह कहा जाता है यह उपग्रह ग्रहों के सबसे निकटतम पिंड होते है जो लगातार उस ग्रह के चारों और घूमते रहते हैं, इन netural उपग्रहों को ही चन्द्रमा कहा जाता है, अब तक करीब 64 से अधिक प्राकृतिक उपग्रहों को खोजा जा चुका है।

पृथ्वी का एक मात्र उपग्रह चन्द्रमा

चन्द्रमा हमारी पृथ्वी का एक मात्र इकलौता प्राकृतिक उपग्रह है जिस पर न तो हवा है और न ही पानी यह धरती के सबसे निकट स्थित आकाशीय पिंड है, इसकी सतह तथा आंतरिक स्थिति का अध्ययन सेलेनोलॉजी व moon पर उपस्थित धुल के मैदानों को शांति सागर कहा जाता है।

जीवाश्म ग्रह कहे जाने वाले हमारे चंदा मामा हमारी धरती का एक चक्कर 27 दिन और 6 घंटे में पूरा कर लेते हैं, इसके साथ ही सूर्य के संदर्भ में चन्द्रमा की परिक्रमा 29.53 दिनों में पूरी हो जाती है, इस परिक्रमा में लगे इस time को एक चंद्रमास कहा जाता है, पृथ्वी से हमें चन्द्रमा का 57 फीसदी भाग ही देता है।

सभी ग्रहो के उपग्रहों की सूची

Name of planets in hindiNumber of moons
बुध0
शुक्र0
पृथ्वी1
मंगल2
बृहस्पति16
शनि18
अरुण16
वरुण8
name of the planets name in hindi

कृत्रिम उपग्रह क्या होते है ?

अंतरिक्ष में हम इंसानो द्वारा बनाकर छोड़े गए उपग्रहों को कृत्रिम उपग्रह कहा जाता है, सर्व प्रथम सन 1957 में स्पूतनिक नामक दुनिया का पहला कृत्रिम उपग्रह रूस द्वारा अंतरिक्ष में छोड़ा गया था जिसके बाद से अन्य देश साल दर साल अपने अपने कृत्रिम उपग्रह अंतरिक्ष में पहुंचते रहते हैं, अगर हमारे भारत की बात की जाए तो आर्यभट्ट नामक उपग्रह अंतरिक्ष में छोड़ा गया हमारा पहला कृत्रिम उपग्रह था।

कृत्रिम उपग्रहों से क्या लाभ हैं ?

हम इंसानो द्वारा अंतरिक्ष में छोड़े गए कृत्रिम उपग्रहों ने हमारे जीवन को काफी हद तक आसान बनाया है इनकी मदद से आज हमें रेडियो, टेलीफोन, इंटरनेट, मौसम संबंधी जानकारी जुटाने, कृषि उत्पादन के विषय मेंअध्ययन करने के अलावा इस पूरी दुनिया का अध्ययन करने में मदद मिलती है, इनकी सहायता से हम धरती पर खनिज सम्पदा का विश्लेषण करने में काफी मदद पाते हैं।

क्षुद्र ग्रह क्या होते हैं ?

Jupitar and Mars planets के बीच कुछ छोटे छोटे आकाशीय पिंड उपस्थित है, जो sun की लगातार इन all planets की भांति परिक्रमा कर रहें हैं, उन्हें ही हम लोग क्षुद्र ग्रह या छोटे ग्रह के नामो से जानते हैं।

सामान्यता इन चट्टानी पिंडों का आकर 100 से 300 किलो मीटर तक होता है, इनका निर्माण planets के विस्फोटन से हुआ है, और जब यह किसी planet की सतह से टकराते हैं तो वहाँ बहुत बड़ी गर्त का निर्माण हो जाता है, जैसे महाराष्ट्र कि लोनार झील।

धूमकेतु (comet) क्या होते हैं ?

धूमकेतु सोलर सिस्टम का वह सुन्दर पिंड है जिसकी चमकीली पूंछ होती है, सौरमंडल के छोर पर अनगिनत पिंड उपस्थित है, यही आकाशीय पिंड धूमकेतु कहलाते हैं, comet प्राय: गैसों व धूल का मिश्रण होते है जो सूर्य के नजदीक पहुँचाने पर ही चमकदार पूंछ सहित light के गोले के रूप में दिखाई पड़ते हैं।

वैसे तो comet हमेशा के लिए टिकाऊ नहीं होते हैं but फिर भी इनके लौटने का time निश्चित होता है, हैले नामक धूमकेतु का परिक्रमण काल 76 वर्ष का है यह सन 1986 में दिखने के बाद अब ठीक 76 वर्ष बाद 2062 में दिखाई देगा।

उल्का पिंड से क्या अभिप्राय है ?

उल्का पिंड को अंग्रेजी में Meteors कहा जाता है, यह आकाश में चमकीली धारी के रूप में हमें दिखाई देते हैं जो कुछ ही क्षणों में विलुप्त हो जाते हैं, यह क्षुद्र ग्रहों के टुकड़े या comets के द्वारा अपने पीछे छोड़े गए धूल के कण होते हैं।

FAQ: अक्क्सर पूंछे जाने वाले प्रश्न

Q.1 हमारे solar systam में कुल कितने ग्रह है ?

Ans: आठ

Q.2 तारे किस तरह के गोले होते हैं ?

Ans: गर्म गैसों के

Q.3 सूर्य की उम्र कितनी है ?

Ans: पांच बिलियन वर्ष

Q.4 भविष्य में सूर्य द्वारा ऊर्जा देते रहने का कितना समय है ?

Ans: 1011 वर्ष

Q.5 बृहस्पतीय ग्रह किन ग्रहों को कहा जाता है ?

Ans: शनि, बृहस्पति, अरुण तथा वरुण को

Q.6 आकार के आधार पर planets का घटता क्रम क्या है ?

Ans: बृहस्पति,शनि, अरुण,वरुण, पृथ्वी, शुक्र, मंगल व बुध

Q.7 Solar system के सबसे छोटे ग्रह का क्या नाम है ?

Ans: बुध (Mercury)

Q.8 बौने ग्रह कौन से हैं ?

Ans: प्लूटो, चेरान, सेरस और 2003 ub 313

Q.9 कौन से ग्रह पश्चिम से पूरब की ओर घूमते हैं ?

Ans: शुक्र और अरुण

Q.10 किन ग्रहों को नंगी आँखों से देखा जा सकता है ?

Ans: मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र व शनि आदि ग्रहों को

अंतिम शब्द

उम्मीद है की अब आप all planets name in hindi, solar system ग्रह, उपग्रहों आदि के बारे में हमारे द्वारा शेयर की गई इस महत्वपूर्ण जानकारी को Read कर planets के विषय में एक अच्छी जानकारी जुटाने में कामयाब रहे होंगे।

मैं आशा करता हूँ की इस लेख को पढ़ने के बाद आपको Solar system planets name in hindi and english को लेकर कहीं और पढ़ने की जरूरत नहीं पड़ेगी अगर इसको लेकर अभी भी आपको कोई doubt है, तो उसे बेझिझक कमेंट करे हम आपके comment का जल्द ही जवाब देने की कोशिश करते हैं।

साथ ही अगर आपको हमारा यह planets name in hindi वाला लेख अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें ऐसे ही और Knowledgble आर्टिकल जल्दी पढ़ने के लिए आप हमारे website की notification on कर सकते हैं अंत तक साथ देने के लिए आपका दिल से धन्यवाद।

यह उपयोगी हो सकते हैं:

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.