mera bharat mahan essay in hindi मेरा भारत पर निबंध 2021

Friends मुझे आज भी अच्छे से याद है जब एक बार मेरी Hindi Teacher ने मेरी class के सभी बच्चों से Mera Bharat mahan essay in Hindi को लिखने के लिए बोला था।

और तब उस समय मैंने mera Bharat Mahan essay in Hindi को बड़ी मुश्किल में लिख तो दिया लेकिन एक सही तरीके से लिखने में नाकाम रहा जिसके चलते मुझे मेरी Teacher ने काफी दण्डित किया था।

जिसके बाद से मैंने mera bharat mahan in hindi को कई बार पढ़ा और अच्छे से समझा जिसके चलते अब मुझे ऐसा लगता है, की तब मेरे द्वारा पढ़ा गया ‘मेरा भारत महान निबंध’ मेरे प्यारे देश के बारे में जानने का मेरा सबसे पहला प्रयास था।

मेरे प्यारे दोस्तों क्या आप भी कभी अपने School Career में हमारी तरह मेरा भारत महान पर निबंध लिखने में दण्डित हुए हैं? या फिर अभी हो रहें हैं, अगर हाँ, तो आपको इस पोस्ट को ध्यान से Read करना है।

क्योंकि यहाँ आज हम महान भारत निबंध पर मेरे द्वारा आज तक पढ़ा लिखा गया वो सब शेयर करूँगा जो mera Bharat Mahan essay in Hindi को सम्पूर्ण Essay यानि निबंध में तब्दील करेगा।

mera Bharat mahan essay in Hindi this is image of mera bhart mahan nibandh.

तो चलिए आपका और मेरा ज्यादा समय न लेते हुए हम मेरा भारत देश महान विषय पर निबंध लिखना शुरू करते हैं।

Mera Bharat Mahan Essay In Hindi

दोस्तों आज का यह लेख Mera Bharat Desh Mahan Essay In Hindi First Class से लेकर 12nd Class तक के विद्यार्थियों के लिए बेहद उपयोगी है। दोस्तों हम सभी जानते हैं की हमारे भारत देश में आर्यभट्ट जैसे महाज्ञानी, भगवान राम जैसे महापुरुषों के साथ महान स्वतंत्रता सेनानी, वैज्ञानिको ने जन्म लिया है।

जिन्होंने इस धरती लेकर अंतरिक्ष तक भारत के नाम की छाप छोड़ी हैं कुछ ऐसे भारत के महान कार्यों और तमाम चीजों की चर्चा हम लोग निबंध के रूप में करने वाले हैं।

mera bharat mahan essay in hindi 10 lines

  1. मेरे देश का नाम भारत है।
  2. भारत एशिया महाद्वीप में स्थित है।
  3. भारत की राजधनी नई दिल्ली है।
  4. भारत की अधिकांश जनसंख्या गावों में निवास करती है।
  5. भारतीय मुद्रा रूपया है।
  6. भारत एक कृषि प्रधान देश है।
  7. इसके उत्तर में हिमालय तथा दक्षिण में समुंद्र स्थित है।
  8. यहाँ के लोग बहुत ही मेहनती और ईमानदार होते हैं।
  9. भारत का राष्ट्रीय पक्षी मोर तथा राष्ट्रीय पशु बाघ है।
  10. भारत 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ था।

mera bharat mahan essay in hindi in 100 words

पुरे विश्व में प्रसिद्ध भारत एक महान देश है, इसकी राष्ट्रीय मुद्रा रुपया और राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा है, यहाँ की राजधानी नई दिल्ली तथा राष्ट्रिय भाषा हिन्दी है, जिसको बोलने और समझने वालों की संख्या पुरे देश में मौजूद है।

भारत की अधिकांश आबादी गावों में निवास करती है, यहाँ के लोग धरती को अपनी माता के सामान पूजते है, भारत की धरती पर अनेक बड़े बड़े महापुरषों, ऋषि मुनियों ने जन्म लिया है,भारत में कई धर्म समुदाय और जाती के लोग आपस में मिलजुल कर रहते हैं।

यहाँ के लोगों को सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में रहने का गौरव प्राप्त है यहाँ लोग अपने मत के आधार पर राजनेताओं का चुनाव कर सकते हैं, भारत में आज भी घर के बड़े बुज़ुर्खो द्वारा देखी गई लड़का या लड़की से शादी की जाती है।

भारत के कोने कोने में सुंदरता बिखरी पड़ी है कहीं फूल तो कही बड़ी बड़ी नदियाँ, पहाड़ तथा मरुस्थल इसकी सुंदरता को निखारने का काम करते है भारत का स्वतंत्रता दिवस प्रत्येक 15 अगस्त को यहाँ के लोगों द्वारा बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।

mera bharat mahan essay in hindi 150 words

एशिया महाद्वीप में स्थित हमारा महान देश भारत जिसे पूरी दुनिया हिन्दुस्तान, इंडिया आदि कुछ अन्य नामों से भी जानती है, इसको 15 august 1947 को आजादी मिली और इसका सविंधान सन 1950 को भारत की समस्त जनसँख्या पर सामान रूप से लागू किया गया।

उत्तर हिमालय से लेकर दक्षिण समुद्र तक फैले हमारे देश भारत की लगभग 130 करोड़ की आबादी का अधिकांश हिस्सा गावों और कस्बों के माध्यम से निवास करता है। यह एक विकासशील देश है, जिसका राष्ट्रपति सम्पूर्ण राष्ट्र का प्रमुख होता है।

भारत का प्रधानमंत्री देश के प्रमुख कार्यों को सभालता है साथ ही यहाँ का कानून भारत के प्रत्येक व्यक्ति पर समान रूप से लागू होता है।

Mera bharat mahan essay in hindi long (निबंध 1)

  • प्रस्तावना :

उत्तर हिमालय से लेकर दक्षिण में समुद्र तक फैला लगभग 3264263 वर्ग किमी क्षेत्रफल वाला यह उपमहाद्वीप भारत के नाम से जाना जाता है, माना जाता है इसका यह नाम भारत के राजा दुस्यंत के पुत्र भरत के नाम पर पड़ा था।

लेकिन महाकाव्यों और पुराणों में इसे भारतवर्ष यानी भरतों का देश तथा यहाँ के निवासियों को भारती अर्थात भरत की संतान के नाम से जाना जाता था आज भारत 28 राज्यों और 8 केंद्रशासित प्रदेशों के साथ लगभग 130 करोड़ आबादी वाला जनसँख्या के दृष्टि से दुनिया का दुसारा सबसे बड़ा देश है।

यहाँ विभिन्न जाती, धर्म और समुदाय के लोग आपस में मिलजुल कर प्रेम से शहरों तथा गावों के माध्यम से निवास करते हैं।

  • भारत की शाशन प्रणाली:

हमारे देश भारत के लोगों को दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में रहने का गौरव प्राप्त है इसके साथ भारत देश में दोहरी शासन प्रणाली लागू होती है यहाँ President यानी राष्ट्रपति सम्पूर्ण राष्ट्र का प्रधान अर्थात प्रथम पुरुष होता है।

भारत में President के बाद प्रधानमंत्री देश के प्रमुख कार्यों को संभालता है, भारत की शासन व्यवस्था के तीन मुख्य अंग न्यायपालिका, कार्यपालिका तथा संघियपालिका है जिनके तहत सभी राज्य सरकारें भी अपने प्रमुख कार्य करती है।

भारत में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री से लेकर मुख्या मंत्री तक सभी प्रमुख पदों का कार्यकाल केवल 5 वर्ष का ही होता है, इसलिए भारत में हर 5 साल बाद निर्वाचन विधि द्वारा इन प्रमुख पदों के लिए एक जिम्मेदार व्यक्ति का चुनाव किया जाता है।

  • भारत की कानून व्यवस्था:

प्राचीनकाल से ही भारत एक शांति प्रिय देश रहा है, जिसका कुछ विदेशी ताकतों ने फायदा भी उठाया है, आज भी भारत की कानून व्यवस्था अंग्रेजों के शासनकाल में शुरू की गई ब्रितानी कानून पर आधारित है।

लेकिन वहीं अब भारत की आजादी के बाद से देश में कई बड़े कानूनों का निर्माण किया गया है, यह कानून कही पर बहुत शख्त तो कही पर बहुत नरम होते हैं, भारतीय कानून एक अपराधी के साथ बड़ी सख्ती से पेश आता है।

भले ही हमारे भारत के कानून में कोई भी केस की सुनवाही देरी से होती है लेकिन किसी बेगुनाह व्यक्ति को सजा न हो जाये इसका विश्लेषण बड़ी बारीकी से किया जाता है शायद इसलिए ही ये देरी होती है।

भारतीय कानून का उल्लंघन करने वाले को उचित सजा तथा देश के अहम मुद्दों पर बारीकी से विश्लेषण कर अंतिम फैसला लेने वाले सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट जैसे महान संस्थान भारत देश में मौजूद है।

भारतीय कानून भारत के हर एक सख्श के लिए समानरूप में लागु होता है जिसका पालन हम भारतीय बड़ी सिद्दत से करते हैं और आगे भी करते रहेंगे।

  • भारत की संस्कृति:

भारतीय संस्कृति को बहुयामी संस्कृति भी माना जाता है क्योंकि भारत की संस्कृति हजारों साल पुरानी संस्कृतियों में से एक है भारत की संस्कृति अनेकता में एकता पर आधारित है यह अनेकता में एकता एक शब्द ही नहीं बल्कि यह भारत देश की संस्कृति और विरासत में पूरी तरह लागू होता है।

मेरे प्यारे भारत की संस्कृति अन्य देशों की अपेक्षा अत्यंत आकर्षित है इसे आज भी विश्व की पहली और प्राचीन संस्कृति के रूप में माना जाता है, भारत एक विविधतापूर्ण देश है जहाँ विभिन्न धर्मों के लोग अपनी संस्कृति और परंपरा के साथ शांतिपूर्णं तरीके से एक साथ मिलकर रहते हैं।

यहां विभिन्न धर्मों के लोगों की अपनी भाषा, खाने की आदत, रीति-रिवाज़ आदि सब भिन्न हैं, फिर भी वो एकता के साथ रहते हैं, शायद इसी कारण से भारत अपनी समृद्ध संस्कृति और परंपराओं के लिए दुनिया भर में जाना जाता है,।

आज हर कोई भारतिय संस्कृति से आगे बढ़ने की प्रेरणा लेता है, इसलिए हम सब को अपनी संस्कृति को ऐसे ही बनाये रहना होगा।

  • भारत के महापुरुष

भारत महापुरुषों का देश है ये कहना बिल्कुल भी गलत नहीं होगा क्योंकि भारत की इस पावन धरती पर भगवान प्रभु श्री राम, श्री कृष्ण से लेकर परशुराम जैसे महान ऋषि मुनियो के अलावा वीर प्रतापी महाराणा प्रताप और शिवजी जैसे महान योद्धाओं ने जन्म लिया है।

इन सबके अलावा भारत की धरती को स्वत्नत्रता दिलाने वाले हमारे प्रिय नेता जी सुभाषचंद्र बोस, वीर भगत सिंह और महात्मा गाँधी जैसे तमाम उन महापुरुषों का यह देश हमेशा ऋणी रहेगा जिन्होंने इस धरती के लिए अपना बलिदान दिया है।

हमें सदा हमारे इन महापुरषों के आगे आत्म समर्पण और इनका हमेशा सच्चे मन से सम्मान करते रहना चाहिए क्योंकि इनके बलिदान से ही हम इस कदर स्वतंत्रता पूर्वक कहीं भी घूम रहें हैं, भारत की धरती आज भी हमारे इन महापुरुषों की निशानियों को संजोये हुए जिन्हे मिटने नहीं देना चाहिए।

  • भारतीय पर्यटन

भारत पर्यटन का सबसे बड़ा सेवा उघोग है, भारतीय पर्यटन का भारत देश की जीडीपी में लगभग 6.23% और रोजगार में 8.78% का कुल योगदान करता है, इसके अलावा देश में हर वर्ष लगभग 50 लाख विदेशी पर्यटक भारत का भ्रमण करने आते हैं।

वैसे तो भारत के उत्तर में हिमालय की बर्फीली पहाड़ियों से लेकर दक्षिण में केरल के उष्ण कटिबंधीय वनस्पति इलाकों तक भारत में आने वाले पर्यटकों का मन मोहन का केंद्र हैं हैं, इसके अलावा भारत में पर्यटन की दृष्टि से सात अजूबों में से एक ताजमहल, बनारस के घाट, स्टेचू ऑफ़ यूनिटी, लाल किला जैसे स्थान प्रमुख हैं।

  • उपसंहार

हमारे प्यारे देश भारत का इतिहास हजारों साल पुराना है, हमेशा शांति, अमन और दूसरों की भलाई चाहने वाले हमारे भारत की धरती पर राज कर कुछ विदेशी ताकतों ने कई वर्षों तक यहाँ के निवासियों को लुटा और प्रताड़ित किया है लोगों में आपसी मत भेद कराने का काम किया।

लेकिन फिर भी यहाँ के निवासियों ने समय समय पर अनेकता में एकता का परचम लहराया है सोने की चिड़िया कहे जाने वाले इस देश में बहुत से महान महापुरुषों और वैज्ञानिको ने जन्म लिया है जिह्नोने अपने काम से दुनिया को महान भारत के आगे झुकने को मजबूर किया है।

इतना सब सहने के बाद भी भारत आज दुनिया के सामने अपनी सांस्कृतिक परम्पराओं व विरासतों के साथ ज्यों का त्यों खड़ा है और यहाँ के लोग आज भी आपस में मिलजुल कर रहते हैं, हम सब को इससे बढ़कर और क्या चाहिए शायद यही वजह भारत को दुनिया से अलग दर्शाती है।

Mera bharat mahan essay in hindi (निबंध 2)

  • प्रस्तावना

हर देश का नागरिक अपने देश पर प्राण न्योछावर करने के लिए हमेशा तत्पर रहता है, वह अपने देश को ही सर्व श्रेष्ठ मानता है, ऐसे ही हम भी अपने देश से बहुत प्रेम करते हैं जब इस संसार में बहुत सी सभ्यताओं का विकास भी नहीं हुआ था।

तब हमारे देश के ऋषि मुनियों ने कई सारे वेद-ग्रंथो की रचना कर डाली थी। आध्यात्मिक रूप से ही नहीं बल्कि भौतिक रूप से भी हमारा भारत प्राचीनकाल से ही एक सम्पन्न देश रहा है।

पुराने समय में भारत सोने की चिड़िया कहलाता था अर्थशास्त्र, विज्ञान, नक्षत्र विद्या, ज्योतिष जैसे विषयों को महारथ हासिल करने वाले विद्वानों ने भारत की इस पावन धरती पर जन्म लेकर इस दुनिया के कई देशों की सभ्यता और ज्ञान की शिक्षा दी है।

कहा जाता है की हमारे इस देश भारत का नाम राजा दुष्यंत के पुत्र ‘भरत’ के नाम पर पड़ा है, भारत प्राचीनकाल से ही एक महान देश रहा है हमें अपने इस देश के प्रति हमेशा कृतज्ञ रहना चाहिए।

  • मेरा गौरव पूर्ण भारत

एशिया महाद्वीप में स्थित हमारा भारत देश एक विशाल देश है, इसमें सभी धर्म समुदाय के लोग आपस में मिलजुल कर निवास करते हैं, इसके उत्तर में हिमालय तथा दक्षिण में महासागर है, भारत की इस पावन भूमि पर कई नदियां, मैदान और मरुस्थल मौजूद हैं।

भारत एक कृषि प्रधान देश है यहाँ गेहूं, मक्का, चावल,चना,गन्ना ज्वर आदि की फसलें भारी मात्रा में उगाई जाती हैं, भारत में चन्द्रगुप्त, पृथ्वीराज, विक्रमादित्य, अशोक और महाराणा प्रताप जैसे वीर पुरुषों ने जन्म लिया है, इसके साथ भारत में हरिद्वार, काशी, मथुरा, प्रयाग जैसे पावन तीर्थ-स्थल भी हैं।

स्वामी विवेकानंद, दयानन्द, भगत सिंह, महात्मा गाँधी, चंद्र शेखर आजाद, शिवजी जैसे हमारे महापुरुषों ने भारत की इस भूमि को अपने श्रेष्ठ कर्मों की सुगंध से महकाया है।

  • आधुनिक भारत

प्राचीनकाल में हमारा देश कई विदेशी ताकतों का गुलाम रहा है, उनसे यह झूटा भी न था की यहाँ अंग्रेजों का बोलबाला हो गया जिसके पश्चात हमने अनेक युद्धों और संघर्षों से अपने देश को उस गुलामी मुक्त करा के कई क्षेत्रों में प्रगति कर ली है।

लेकिन जब आज हम देखते हैं की हमने प्रगति तो की है लेकिन हम स्वयं ही भ्रष्टाचार, चोरी, अनीति, जुआखोरी आदि कामों से अपना विनाश करने पर तुले हैं, देश की सीमाओं पर युद्ध के बदल मडराते रहते हैं सब जगह भय, आतंक और विक्षोभ का वातावरण व्याप्त रहता है।

इसके दूसरी ओर आज हम भारतीय जमीन से लेकर अंतिरिक्ष तक भारत का नाम ऊँचा कर रहें हैं और अगर हमें अपने भारत को ऐसे ही समृद्ध बनाये रखना है तो अपने इस प्रिय देश के लिए एक होकर इन सब कुरीतियों को समाप्त कर देना होगा।

  • उपसंहार

आज हमने बहुत से क्षेत्रों में तरक्की कर ली है, जिन्हे देखकर दुनिया हैरान रह जाती है, आज बहुत से देश हमारी राह पर चलकर आगे बढ़ रहे हैं, वह भारत जिस पर प्राचीनकाल में अंग्रेजों का अधिपत्य हुआ करता था जिसे हमने बड़े संघर्षों और युद्धों से हटाया है।

लेकिन इस समय हमारे देश में कई बुराइयों ने जन्म ले लिया है लोग ओझी राजनीती कर भारत का नाम बदनाम करने की कोशिश करते हैं, हमें अपने इस भारत

  • FAQ

Q.1 मेरा भारत महान निबंध कैसे लिखें?

Ans: अगर आप मेरा महान भारत पर एक निबंध लिखना चाहते हैं तो सबसे पहले आप इस लेख को एक बार अच्छे पढ़ ले उसके बाद एक रफ कॉपी ले और उस पर लिखें की आपको निबंध कितने शब्दों में लिखना है और उसमे हेडिंग बनानी है या नहीं बनानी हैं।

इतना सब निर्धारित करने के बाद अब आपको अपना मेरा भारत पर निबंध लिखना Start कर देना चाहिए लिखते समय इतना ध्यान रखना है की आपके द्वारा लिखे जा रहे Sentences एक Proper Direction और Sequance में ठीक आ रहे हैं या नहीं।

इतना सब करने के बाद आपका निबंध जब लिख के तैयार होगा तो वह सबसे अच्छा और यूनीक होगा जिसका जाँच करने के बाद आपके अध्यापक आपको अच्छे मार्क देने से खुद को रोक नहीं पाएंगे।

Q.2 मेरा देश महान क्यों है?

Ans: अनेकता में एकता यानी मिलजुल कर रहना हमारे देश की निशानी है हमेशा शांति और दूसरों की भलाई चाहने वाले हमारे भारत ने कई कठिन संघर्षों से उभरा है इतना सब सहने के बाद भी हमारे देश के लोगों का हमारे देश के प्रति अटूट विश्वाश और प्रेम बरकार है।

भले ही हम उत्तर से दक्षिण और पूरब से पश्चिम कई दिशाओं में निवास करते हैं हमारी बोली-भाषाएँ, खान-पान और वेश-भूषा भिन्न हैं लेकिन हम सब मिलजुल कर अपने भारत की सांस्कृतिक परम्पराओं का पालन और विरासतों का रखरखाव करते हैं।

यूँ तो भारत की संस्कृति को सबसे प्राचीन माना जाता है, यहाँ आज भी ‘अतिथि देवो भव:’ अर्थात मेहमान को देवता के समान मानने वाले और ज्ञान देने वाली किताबों के पैर छूने वाले आदि प्रकार के कुछ कार्य भारत की संस्कृति को दुनिया से भिन्न करते हैं।

Last Words:

दोस्तों वैसे हमने mera bharat mahan essay in hindi को अपने शब्दों में लिखकर आप तक पहुँचाने की एक छोटी सी कोशिश की है मुझे आशा है की हमारे द्वारा लिखा गया mera bharat mahan essay in hindi आपको मेरे महान भारत पर निबंध लिखने में मदद कर पायेगा।

इससे पहले मै आपको बता दूँ की अगर आप mera bharat mahan essay in hindi को लिखना चाहते हैं तो आपको इस लेख की तरह copy बिल्कुल नहीं करना है इसे आपको बस अच्छे से पढ़ना और समझना है जिसके बाद आपको इसे अपने शब्दों में अच्छे से लिखना है।

जिससे आपका mera bharat mahan essay in hindi एकदम यूनिक और फ्रेस होगा क्योंकि वह आपके शब्द होगें जिससे आपको अच्छे मार्क मिलने से कोई नहीं रोक पायेगा इसी के साथ अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

  • यह भी पढ़ें –

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.