Hanuman Chalisa in hindi (हनुमान चालीसा) free download hanuman chalisa pdf 2022 में ऐसे पढ़ें फ्री hanuman chalisa lyrics

Hanuman chalisa हनुमान चालीसा hanuman chalisa lyrics हनुमान चालीसा हिंदी में hnuman chalisa pdf hanuman chalisa in hindi shree hanuman chalisa 2022 में यहाँ से फ्री में पीडीऍफ़ डाउनलोड करें hariharn shree hanuman chalisa की

नमस्कार मेरे प्रिय पाठक स्वागत है,आपका आज के इस लेख पर Friends आज हम आपको भगवान श्री राम के सबसे बड़े भक्त hariharn shree hanuman का गुणगान करने वाली जिसके पढ़ने मात्र से सारे दुःख विकार दूर हो जाते हैं ऐसी Hnuman chalisa की hanuman chalisa lyrics और आपको पढ़ने के लिए Hnuman chalisa in hindi pdf को भी Provide करने वाले हैं।

hanuman chalisa in hindi हनुमान चालीसा

दोस्तों भगवान श्री राम के सबसे बड़े भक्त हनुमान जी को इस पूरे भारत वर्ष में कौन नहीं जानता है सबके दुःख हरता और हम सबके पालन कर्ता महाबली वीर हनुमान माता अंजनी के पुत्र हैं जिन्हे हिन्दू देवी देवताओं में उच्च कोटि का स्थान प्राप्त है।

भगवान श्री हनुमान का मन से लेने मात्र से सारे भय दूर हो जाते हैं संकट मोचन महाबली हनुमान को कई अन्य नामों जैसे पवन सुत, मारुतिनंदन, केसरीनंदन,बजरंगबली, महावीर आदि नामों से भी जाना जाता है हनुमान चालीसा अवधी भाषा में अक्षरित एक अत्यंत लघु काव्यात्मक कृति है।

जिसमे भगवान श्री हनुमान के गुणों व कार्यों का चालिस चौपाइयों के माध्यम से बखान किया गया है इसके साथ ही आपको बतातें चले की Hanuman Chalisa में चालीसा शब्द का अभिप्राय 40 चालिस से है क्योंकि भगवान shree Hanuman ji की भावपूर्ण वंदना करने वाली Hanuman chalisa में introduction के २ दोहों को छोड़कर 40 छंद मौजूद हैं।

hanuman chalisa बजरंगबली के भक्तों द्वारा की जाने वाली प्रार्थना है इसलिए ही इसे हनुमान चालीसा कहा जाता है।

Hanuman Chalisa Hindi Lyrics

दोहा

श्रीगुरु चरन सरोज रज निज मनु मुकुरु सुधारि ।
बरनउँ रघुबर बिमल जसु जो दायकु फल चारि ॥

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन कुमार
बल बुधि विद्या देहु मोहि, हरहु कलेश विकार

चौपाई

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर
जय कपीस तिहुँ लोक उजागर॥१॥

राम दूत अतुलित बल धामा
अंजनि पुत्र पवनसुत नामा॥२॥

महाबीर बिक्रम बजरंगी
कुमति निवार सुमति के संगी॥३॥

कंचन बरन बिराज सुबेसा
कानन कुंडल कुँचित केसा॥४॥

हाथ बज्र अरु ध्वजा बिराजे
काँधे मूँज जनेऊ साजे॥५॥

शंकर सुवन केसरी नंदन
तेज प्रताप महा जगवंदन॥६॥

विद्यावान गुनी अति चातुर
राम काज करिबे को आतुर॥७॥

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया
राम लखन सीता मनबसिया॥८॥

सूक्ष्म रूप धरि सियहि दिखावा
विकट रूप धरि लंक जरावा॥९॥

भीम रूप धरि असुर सँहारे
रामचंद्र के काज सवाँरे॥१०॥

लाय सजीवन लखन जियाए
श्री रघुबीर हरषि उर लाए॥११॥

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई
तुम मम प्रिय भरत-हि सम भाई॥१२॥

सहस बदन तुम्हरो जस गावै
अस कहि श्रीपति कंठ लगावै॥१३॥

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा
नारद सारद सहित अहीसा॥१४॥

जम कुबेर दिगपाल जहाँ ते
कवि कोविद कहि सके कहाँ ते॥१५॥

तुम उपकार सुग्रीवहि कीन्हा
राम मिलाय राज पद दीन्हा॥१६॥

तुम्हरो मंत्र बिभीषण माना
लंकेश्वर भये सब जग जाना॥१७॥

जुग सहस्त्र जोजन पर भानू
लिल्यो ताहि मधुर फ़ल जानू॥१८॥

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माही
जलधि लाँघि गए अचरज नाही॥१९॥

दुर्गम काज जगत के जेते
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते॥२०॥

राम दुआरे तुम रखवारे
होत ना आज्ञा बिनु पैसारे॥२१॥

सब सुख लहैं तुम्हारी सरना
तुम रक्षक काहु को डरना॥२२॥

आपन तेज सम्हारो आपै
तीनों लोक हाँक तै कापै॥२३॥

भूत पिशाच निकट नहि आवै
महावीर जब नाम सुनावै॥२४॥

नासै रोग हरे सब पीरा
जपत निरंतर हनुमत बीरा॥२५॥

संकट तै हनुमान छुडावै
मन क्रम वचन ध्यान जो लावै॥२६॥

सब पर राम तपस्वी राजा
तिनके काज सकल तुम साजा॥२७॥

और मनोरथ जो कोई लावै
सोई अमित जीवन फल पावै॥२८॥

चारों जुग परताप तुम्हारा
है परसिद्ध जगत उजियारा॥२९॥

साधु संत के तुम रखवारे
असुर निकंदन राम दुलारे॥३०॥

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता
अस बर दीन जानकी माता॥३१॥

राम रसायन तुम्हरे पासा
सदा रहो रघुपति के दासा॥३२॥

तुम्हरे भजन राम को पावै
जनम जनम के दुख बिसरावै॥३३॥

अंतकाल रघुवरपुर जाई
जहाँ जन्म हरिभक्त कहाई॥३४॥

और देवता चित्त ना धरई
हनुमत सेई सर्व सुख करई॥३५॥

संकट कटै मिटै सब पीरा
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा॥३६॥

जै जै जै हनुमान गुसाईँ
कृपा करहु गुरु देव की नाई॥३७॥

जो सत बार पाठ कर कोई
छूटहि बंदि महा सुख होई॥३८॥

जो यह पढ़े हनुमान चालीसा
होय सिद्ध साखी गौरीसा॥३९॥

तुलसीदास सदा हरि चेरा
कीजै नाथ हृदय मह डेरा॥४०॥

दोहा

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप॥

sankat mochan shree hanuman status

hanuman chalisa video hanuman chalisa by gulshan kumar

वीडिओ के माध्यम से सुने hanuman chalisa in hindi को

hanuman chalisa video

hanuman chalisa को किसने लिखा है?

Hnuman chalisa को लिखने का श्रेय गोस्वामी श्री तुलसीदास को दिया जाता है गोस्वामी तुलसीदास एक कवि संत और दार्शनिक भी थे इनके महान कार्यों के वजह से बहुत से लोग इन्हे महाकव्य रामचरित मानस का लेखक भी मानते हैं जबकि इन्होने तो सिर्फ रामचरितमानस का अवधी भाषा में पुनर्लेख किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.